केदारघाटी के पर्यटन स्थल सैलानियों व प्रकृति प्रेमियों से गुलजार – लक्ष्मण नेगी ऊखीमठ

केदारघाटी के पर्यटन स्थल सैलानियों व प्रकृति प्रेमियों से गुलजार – लक्ष्मण नेगी ऊखीमठ
0 0
Read Time:4 Minute, 57 Second

ऊखीमठ। वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के कारण चारधाम यात्रा स्थगित होने से क्षेत्र के सभी तीर्थ स्थल वीरान हैं, जबकि सुरम्य मखमली बुग्यालों के मध्य प्रकृति की सुन्दर वादियों में बसे पर्यटक स्थल सैलानियों व प्रकृति प्रेमियों की आवाजाही से गुलजार हैं। भले ही इन पर्यटक स्थलों के चहुंमुखी विकास में केदारनाथ वन्यजीव प्रभाग का सेन्चुरी वन अधिनियम बाधक बना हो फिर भी सैलानी व प्रकृति प्रेमी अपने निजी संसाधनों के बलबूते मीलों पैदल चलकर प्रकृति की खूबसूरत छटा से रुबरु होकर अपने को धन्य महसूस कर रहे हैं। इन दिनों त्रियुगीनारायण – पवालीकांठा, चौमासी – खाम – मनणामाई, रासी – शीला समुद्र – मनणामाई, मदमहेश्वर – पाण्डवसेरा – नन्दी कुण्ड, बुरुवा – टिंगरी – बिसुडीताल, चोपता – ताली – रौणी – बिसुणीताल पैदल ट्रैक सैलानियों व प्रकृति प्रेमियों की आवाजाही से गुलजार बने हुए हैं। वैसे तो हिमालय के आंचल में बसे हर पैदल ट्रैक व पर्यटक स्थल को प्रकृति ने अपने वैभवों का भरपूर दुलार दिया है मगर मदमहेश्वर – पाण्डव सेरा – नन्दी कुण्ड पैदल ट्रैक पर सफर करने से परम आनन्द की अनुभूति होती है। इस पैदल ट्रैक पर प्रकृति को अति निकट से दृष्टिगोचर करने के साथ ही पाण्डवों के अस्त्र शस्त्र के दर्शन करने के साथ – साथ पाण्डव सेरा में पाण्डवों द्वारा बोई गयी धान की लहराती फसल को भी देखने का सौभाग्य मिलता है।

मदमहेश्वर – पाण्डव सेरा – नन्दी कुण्ड पैदल ट्रैक से वापस लौटे छ: सदस्यीय दल ने बताया कि इन दिनों मदमहेश्वर – पाण्डव सेरा – नन्दी कुण्ड पैदल ट्रैक पर कुखणी, माखुणी, जया, विजया, बह्मकमल सहित अनेक प्रजाति के पुष्पों के खिलने से ऐसा आभास हो रहा है कि जैसा वहाँ की पावन माटी ने नव श्रृंगार किया हो। दल में शामिल मनोज पटवाल ने बताया कि मदमहेश्वर – पाण्डव सेरा – नन्दी कुण्ड पैदल ट्रैक बहुत ही कठिन है मगर इन दिनों अनेक प्रजाति के पुष्पों के खिलने से वहाँ के प्राकृतिक सौन्दर्य पर चार चांद लगे हुए है। दल में शामिल हरिमोहन भटट् ने बताया कि इन दिनों हिमालयी क्षेत्रों में बारिश निरन्तर होने से द्वारीगाड का झरने का वेग उफान पर होने के कारण झरना बहुत खूबसूरत लग रहा है मगर द्वारीगाड में पुल न होने से द्वारीगाड को पार करना जोखिम भरा है!

दल में शामिल महावीर सिंह बिष्ट ने बताया कि लोक मान्यताओं के अनुसार जब पांचों पाण्डव द्रोपती सहित केदारनाथ से मदमहेश्वर होते हुए बद्रीनाथ गये तो उस समय उन्होंने पाण्डव सेरा में लम्बा प्रवास किया था इसलिए पाण्डवों के अस्त्र शस्त्र आज भी उस स्थान पर पूजे जाते है! संजय गुसाईं ने बताया कि पाण्डव सेरा में पाण्डवों द्वारा बोई गयी धान की फसल आज भी अपने आप उगती है मगर उस धान की फसल देखने का सौभाग्य परम पिता परमेश्वर की ईश्वरीय शक्ति से मिलता है। अमित चौधरी ने बताया कि नन्दी कुण्ड में चौखम्बा का प्रतिबिम्ब देवरिया ताल की तर्ज पर देखा जा सकता है तथा नन्दी कुण्ड से सूर्य अस्त व चन्द्रमां उदय के दृश्य को ऐसा देखने के अपार आनन्द की अनुभूति होती है! सुभाष रावत ने बताया कि मदमहेश्वर धाम से पाण्डव सेरा लगभग 14 किमी तथा नन्दी कुण्ड लगभग 20 किमी दूर है तथा इन दिनों पूरा क्षेत्र विभिन्न प्रजाति के पुष्पों से सुसज्जित है।

About Post Author

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Related Posts

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Read also x

error: Content is protected !!