मधु गंगा जलविद्युत परियोजना निर्माण कार्य कर के खिलाफ चुन्नी गाँव के ग्रामीणों ने एक सूत्रीय मांग को लेकर किया अनिश्चितकालीन क्रमिक अनशन शुरू..

मधु गंगा जलविद्युत परियोजना निर्माण कार्य कर के खिलाफ चुन्नी गाँव के ग्रामीणों ने एक सूत्रीय मांग को लेकर किया अनिश्चितकालीन क्रमिक अनशन शुरू..
0 0
Read Time:5 Minute, 21 Second

मधु गंगा जलविद्युत परियोजना निर्माण कार्य कर के खिलाफ चुन्नी गाँव के ग्रामीणों ने एक सूत्रीय मांग को लेकर किया अनिश्चितकालीन क्रमिक अनशन शुरू..

               ऊखीमठ : मदमहेश्वर घाटी में 15 मेगावाट मधु गंगा जल विद्युत परियोजना का निर्माण कार्य कर रहे उत्तराखण्ड जल विद्युत निगम के खिलाफ चुन्नी गाँव के ग्रामीणों ने एक सूत्रीय मांग को लेकर अनिश्चितकालीन क्रमिक अनशन शुरू कर दिया है। यदि 11 अप्रैल तक ग्रामीणों की एक सूत्रीय मांग पर अमल नही हुआ तो 12 अप्रैल से क्रमिक अनशन, आमरण अनशन में तब्दील हो जायेगा। ग्रामीणों के क्रमिक अनशन के पहले दिन जनप्रतिनिधियों व विभिन्न सामाजिक संगठनों ने अपना समर्थन दिया। शनिवार को पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत चुन्नी गाँव के कई दर्जनों ग्रामीण मधु गंगा जल विद्युत परियोजना के फोरवे टैंक के निकट पहुंचे तथा अनिश्चित कालीन क्रमिक अनशन शुरू करते हुए 15 मेगावाट जल विद्युत परियोजना का निर्माण कार्य कर रहे।

                  उत्तराखण्ड जल विद्युत निगम खिलाफ जोरदार नारेबाजी की। प्रदर्शनकारियों को सम्बोधित करते हुए नगर पंचायत अध्यक्ष विजय राणा ने कहा कि 15 मेगावाट मधु गंगा जल विद्युत का निर्माण कार्य शुरू होने से पूर्व उत्तराखण्ड जल विद्युत निगम के अधिकारियों ने चुन्नी गाँव के ग्रामीणों के साथ जो वादा किया था उसे पूरा होने पर ही आन्दोलन समाप्त किया जायेगा। उन्होंने कहा कि मधु गंगा परियोजना का निर्माण कार्य युद्ध स्तर पर जारी है तथा उत्तराखण्ड जल विद्युत निगम के अधिकारियों द्वारा ग्रामीणों के साथ जो वादाखिलाफी की जा रही है उसे बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। राजकुमार तिवारी ने कहा कि मधु गंगा जल विद्युत परियोजना का निर्माण कार्य शुरू होने से पूर्व उत्तराखण्ड जल विद्युत निगम के अधिकारियों ने ग्रामीणों को फोरवे टैंक से दो इंच सिचाई पेयजल लाइन देने का वादा किया था मगर आज उत्तराखण्ड जल विद्युत निगम के अधिकारी फोरवे टैंक से दो इंच सिचाई पेयजल लाइन देने से मुखर रहे है, जो कि ग्रामीणों ने साथ धोखा है।

             पूर्व क्षेत्र पंचायत सदस्य विनोद रावत ने कहा कि पूर्व में उत्तराखण्ड जल विद्युत निगम के अधिकारी ग्रामीणों को दो इंच सिचाई पेयजल लाइन देने का वादा करते रहे मगर उत्तराखण्ड जल विद्युत निगम के अधिकारियों के स्थानांतरण के बाद ग्रामीणों को दिया आश्वासन भी फाइलों में कैद हो गया है। पूर्व प्रधान अंजना रावत ने कहा कि उत्तराखण्ड जल विद्युत निगम के अधिकारियों द्वारा चुन्नी गाँव के ग्रामीणों को जो आश्वासन दिया था उसे पूरा होने के बाद ही आन्दोलन समाप्त होगा। कर्मवीर बर्त्वाल ने कहा कि क्षेत्र के विकास में ग्रामीण किसी प्रकार के बाधक तो नहीं है मगर उत्तराखण्ड जल विद्युत निगम द्वारा ग्रामीणों को दिया गया आश्वासन पूरा होना चाहिए तभी निगम व ग्रामीणों के मध्य सामंजस्य बना रहेगा।

                इस मौके पर रामेश्वर प्रसाद तिवारी, रणवीर पुष्वाण, नरेन्द्र रावत, शिव प्रसाद तिवारी, इन्द्र सिंह बर्त्वाल, रमेश चंद्र तिवारी, अजय शुक्ला, दर्शनीय देवी, सुनीता देवी, विजया देवी, अमित पुष्वाण, गोविन्द शुक्ला, सोहन लाल, राजेश चन्द्र, प्रकाश शुक्ला, प्रदीप शुक्ला, प्रेम सिंह रावत, राकेश शुक्ला, मनोज तिवारी, संजय तिवारी , धर्मेन्द्र तिवारी,अमित पुष्वाण, दीपक तिवारी,आलोक सहित कई दर्जनों ग्रामीण मौजूद थे।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

admin

Related Posts

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Read also x

error: Content is protected !!