घिमतोली के मध्य लगा बिजली का पोल स्थानीय व्यापारियों के लिए बना है जंजाल… लक्ष्मण नेगी

घिमतोली के मध्य लगा बिजली का पोल स्थानीय व्यापारियों के लिए बना है जंजाल… लक्ष्मण नेगी
0 0
Read Time:2 Minute, 53 Second

          ऊखीमठ : पट्टी तल्ला नागपुर के सीमान्त हिल स्टेशन घिमतोली के मध्य लगा बिजली का पोल स्थानीय व्यापारियों के लिए जी का जंजाल बना हुआ है। बिजली के पोल के निचले हिस्से पर जंक लगने से पोल कभी धराशायी हो सकता है तथा यदि बिजली का पोल धराशायी होता है तो किसी बड़ी अनहोनी घटना की सम्भावनाओं से इनकार नहीं जा सकता है। स्थानीय जनप्रतिनिधियों, व्यापारियों व ग्रामीणों द्वारा विद्युत विभाग के अधिकारियों, कर्मचारियों से बिजली के पोल बदलने की गुहार लगाई गयी है मगर विभागीय अधिकार, कर्मचारी जनता की जायज मांग सुनने को तैयार नहीं हैं। मिली जानकारी के अनुसार घिमतोली मुख्य बाजार में लगा बिजली का पोल जंक लगने के कारण धीरे – धीरे कमजोर होता जा रहा है तथा आलम यह है कि बिजली का पोल लगभग 70 प्रतिशत जंक लगने से कभी भी धराशाई हो सकता है। क्षेत्र पंचायत सदस्य घिमतोली अर्जुन सिंह नेगी का कहना है कि बिजली का पोल कभी भी धराशायी हो सकता है तथा बिजली के पोल के धराशायी होने से बहुत बड़ा हादसा होने की सम्भावनाओं से इनकार नहीं किया जा सकता है।

           प्रधान बसन्ती नेगी ने बताया कि घिमतोली बाजार से पोखरी, हापला, कलसीर, चन्द्रनगर, भणज, जागतोली, रौता सहित विभिन्न गांवों व कार्तिक स्वामी तीर्थ जाने वाले ग्रामीणों व तीर्थ यात्रियों के वाहनों की आवाजाही निरन्तर होती रहती है तथा कोई भी वाहन बिजली के पोल के चपेट में आ सकता है! पूर्व प्रधान रघुवीर सिंह नेगी ने बताया कि विभागीय अधिकारियों को बार – बार अवगत कराने के बाद भी विभागीय अधिकारी ग्रामीणों की फरियाद सुनने को राजी नहीं हैं। स्थानीय व्यापारी उमेद सिंह नेगी, मनवर सिंह नेगी, प्रेम सिंह नेगी ने बताया कि बिजली के पोल गिरने का भय व्यापारियों को हर समय सता रहा है। उनका कहना है कि यदि बिजली के पोल गिरने से कोई बड़ा हादसा होता है तो उसकी पूर्ण जिम्मेदारी विधुत विभाग की होगी।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

admin

Related Posts

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Read also x

error: Content is protected !!