भराड़ीसैण सत्र के दौरान विधानसभा घेराव कार्यक्रम में शामिल होने की अपील की ‘प्रवीण सिंह काशी’ ने…

भराड़ीसैण सत्र के दौरान विधानसभा घेराव कार्यक्रम में शामिल होने की अपील की ‘प्रवीण सिंह काशी’ ने…
0 0
Read Time:3 Minute, 4 Second

गैरसैंण को स्थाई राजधानी घोषित किये जाने को लेकर बीते 7 दिनों से जारी पदयात्रा का गुरूवार को समाप्त हो गई। ग्रीष्म कालीन राजधानी के विधानसभा परिसर स्थित भराड़ीसैण देवी मंदिर में पूजा-अर्चना व हवनकर यात्री दल ने आगे की रणनीति पर चर्चा करने के पश्चात निर्णय लिया कि 5 दिसम्बर तक प्रदेश के पहाड़ी विधानसभा क्षेत्रों में पहुंचकर जनसम्पर्क व मसाल जलूस के माध्यम से जन जागरण किया जाएगा, जिसमें अधिक से अधिक उत्तराखंडियों से भराड़ीसैण सत्र के दौरान विधानसभा घेराव कार्यक्रम में शामिल होने की अपील की जाएगी।

पदयात्रा की अगुवाई कर रहे प्रवीण काशी ने कहा कि- एक राज्य में 2 राजधानी कतई बर्दाश्त नहीं की जा सकती है। प्रस्तावित शीतकालीन सत्र में विधानसभा का घेराव कर गैरसैंण को शीघ्र स्थाई राजधानी घोषित किये जाने की मांग उठाई जाएगी।
ज्ञात हो कि घोषित कार्यक्रम के अनुसार 19 नवम्बर को चमोली जिला मुख्यालय से नंगे पांव यात्रा शुरू की गई थी । चमोली, नंदप्रयाग, लँगसू, कर्णप्रयाग, सिमली, आदिबदरी होते हुये यात्री दल बुधवार को विधानसभा मार्ग के मुख्यद्वार दिवालिखाल पहुंचे व गुरूवार को भराड़ीसैण स्थित माता के मंदिर में हवन के बाद यात्रा संपन्न घोषित की गई। यात्री दल में शामिल वीरेंद्र मिंगवाल ने बताया कि 5 दिसम्बर से दिवालीखाल में धरना शुरु होगा, जो सत्र समाप्ति तक चलेगा।

पदयात्रा में प्रवीण सिंह काशी के साथ दीपक फर्स्वाण, भगत बौबी, देवेन्द्र सिंह चौहान,अरविन्द हटवाल, मोहित कुकरेती, दिनेश बहुगुणा, योगेन्द्र राम, संजय रावत, बिक्रम सिंह नेगी, सुरेन्द्र सिंह रावत, नारायण सिंह बिष्ट, समाजसेवी अंशी बिष्ट, भारती मिंगवाल, मनोज पुजारी, मैं बीरेंद्र सिंह मिंगवाल आदि शामिल हैं जबकि पूर्व राज्य मंत्री सुरेश कुमार बिष्ट, धनीराम, बीरेंद्र आर्य, संजय संजू, बलबन्त सिंह, रमेश नौटियाल आदि ने भराड़ीसैण पहुच कर आंदोलन को समर्थन दिया।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

admin

Related Posts

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Read also x

error: Content is protected !!