70वें राज्य स्तरीय औद्योगिक विकास एवं सांस्कृतिक गौचर मेले का समापन… रिपोर्ट:- केएस असवाल

70वें राज्य स्तरीय औद्योगिक विकास एवं सांस्कृतिक गौचर मेले का समापन… रिपोर्ट:- केएस असवाल
0 0
Read Time:4 Minute, 17 Second

70वें राज्य स्तरीय औद्योगिक विकास एवं सांस्कृतिक गौचर मेले का समापन… रिपोर्ट:- केएस असवाल

       गौचर : 70वॉ राज्य स्तरीय औद्योगिक विकास एवं सांस्कृतिक गौचर मेले का शानदार सांस्कृतिक कार्यक्रमों एवं पुरस्कार वितरण के साथ समापन हुआ। समापन अवसर पर मुख्य अतिथि उप नेता प्रतिपक्ष भूवन कापडी ने कहा कि पर्वतीय समाज के मेलों का स्वरूप भी अपने में एक आकर्षण का केन्द्र है और गौचर का यह प्रसिद्व मेला इसका उदाहरण है। मेले किसी भी समाज के न सिर्फ लोगों के मिलन के अवसर होते हैं, वरन संस्कृति, रोजमर्रे की आवश्यकताओं की पूर्ति के स्थल व विचारों और रचनाओं के भी साम्य स्थल रहे है। उन्होंने गौचर मेले के सफल संपादन एवं मेले को नया आयाम देने के लिए सभी को बधाई दी। इस दौरान मुख्य अतिथि द्वारा श्री मुनेंद्र खंडूरी जी को पंडित महेशानन्द नौटियाल शिक्षा और साहित्य प्रसार सम्मान से सम्मानित किया गया।

इस मौके पर प्रतिभागियों सहित सहयोग करने वाले शिक्षकों, समाजसेवी, प्रेस प्रतिनिधियों, राजस्व टीम, पुलिस प्रशासन, विभागीय स्टॉल, जल संस्थान, विद्युत, उद्यान, उद्योग, कृषि, बाल विकास, वन, आजीविका आदि विभागों सहित मेला समिति के सदस्यों को प्रशस्ति पत्र व स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया गया।

समापन कार्यक्रम में फुटबाल प्रतियोगिता की विजेता टीम हरि सिंह फुटबॉल क्लब गौचर 55 हजार और उप विजेता पौड़ी यूनाइटेड फुटबॉल क्लब को 31 हजार के नगद पुरस्कार के साथ ट्रॉफी प्रदान की गई। बॉलीबाल में विजेता टीम हरि सिंह वॉलीबॉल क्लब गौचर बी को 51 हजार तथा उप विजेता हरि सिंह वॉलीबॉल क्लब ए को 25 हजार व ट्रॉफी प्रदान की गई। इस दौरान सभी खेल विधाओं में विजेता व उप विजेता टीमों को ईनामी धनराशि, प्रशस्ति पत्र व प्रतीक चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया गया।

जिलाधिकारी/मेला अध्यक्ष हिमांशु खुराना ने मेले के सफल संपदान पर सभी विभागों, पुलिस प्रशासन, गणमान्य नागरिकों एवं जनता को बधाई एवं धन्यवाद दिया।

गौचर मेले में इस वर्ष उत्तराखण्ड की लोक संस्कृतिक के साथ-साथ कई राष्ट्रीय स्तर के कार्यक्रम हुए। मेले में रिवर राफ्टिंग, फन गेम्स, मुख्य पांडाल, किड्स जोन, सेल्फी प्वांइट एवं विभागीय स्टॉल भी प्रमुख आकर्षण के केन्द्र बने रहे। मेले की सांस्कृतिक संध्याओं पर कलाकारों ने शानदार प्रस्तुतियों से मेले को यादगार बनाया। इस बार मेले में बच्चों, महिलाओं, युवावों तथा बुर्जुग हर आयु वर्ग को कुछ न कुछ नया सीखने व देखने को मिला। मेलाधिकारी ने मेला समिति की ओर से सभी का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि आने वाले समय में मेले को और भव्य बनाने का प्रयास किया जाएगा।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

admin

Related Posts

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Read also x

error: Content is protected !!